मेनोपॉज़

 हेमा गोपीनाथन साह की क़लम से     

अनुवाद – रोहित शुक्ला

ज़िन्दगी के रंग करवट बदल रहे हैं

मेरे बालों में पनपती सफ़ेदी

काले बालों की चाल चुरा रही है

ऐसी कालीन जो पर्दों से एकसार हुई जा रही है ।

जवाँ उम्र की झुंझलाहट

मेरे बच्चे में नज़र आती है , जब उसे

इंस्टाग्राम के रहस्य समझाने को

सुई में धागा पहनाने को

मेरा चश्मा ढूंढ लाने को

कहा जाता है ।

वो आँखें जिनमें शोले धधकते थे।  

मृगनयनी, आशिक़ ने कहा था,

मुझे कुछ दूरियों की ज़रुरत है, कहा था,

कि नज़र की दूरी बदलना

एक ज़बरदस्त दृष्टिकोण देता है।

ये कह, वो क़दम पीछे करते हुए लौट गया,

धुंधला गया धुंध में।

एक बड़ा बदलाव आने को है   

जैसे गर्मियाँ जाने को हैं  

एक कसता हुआ, सूखता हुआ एहसास

जैसे कोख एक लम्बी ख़ामोशी

अपनाने को है।

गर्भाशय भी क्या करेगा

जबकि वो आँसू तक नहीं बहा सकता

उन शिशुओं के लिए, जिन्हें वो दुनिया में ला सकता था ?

मेरे ऊपर अनजाने में काबिज हो चला

ये मेरे अण्डों का घट जाना।

एक और नन्हा, मुझे ज़रूर पसन्द आता।

एक गर्भ जो चौंकाता नहीं ।

हाँ, कुछ चीज़ें ऐसी हैं जिन्हें मैं भूलना पसंद करती हूँ,

तारीख़ें, शीकप *,

पीएमएस *,

दवा-दुकान पे लुकी-छिपी दस्तक

गर्भ-जाँच के उपकरण,

आई-पिल, आई.यू.डी.* , ओ.सी.*, के लिए,

कंडोम के लिए ।

जनना, बरजना/रोकना,

और एकबारगी, तोड़ देना :

एक औरत के लिए  ज़िम्मेदारी से

ये तीनों कर पाना, बहुत बल का काम है

इन तीन कामों को करने के लिए, हमारी परंपरा में,

तीन देवता लगते हैं ।

मैं अब किशोरी बनने से पहले की

उन्मुक्त उभयलिंगी अवस्था में

सिमट नहीं सकती ।

सोचती हूँ, मेरे जिस्म के ये रजों से मुक्ति/ menopause के रंग क्या हैं;

क्या ये मेरी बोलचाल की आज़ादी में दिखते हैं ?

मेरे गर्भाशय की पतली होती परत के साथ

मेरी ज़बान तेज़ हो चली है, और  

आलोचकों को सुनने का धीरज

कम हो चला है।

बाक़ी सबकुछ आहिस्ता-आहिस्ता मुरझाता जा रहा है।

रोज़मर्रा की ये 5 किलोमीटर दौड़

कुछ काम नहीं आ रही है।

हाँ एक मुलायमियत भी आ बसी है।

अब झट से गुस्सा नहीं आता

पर माफ़ करने का भाव जल्दी आता है

क्योंकि हम सब प्यार के बावले  हैं।

ये शब्द, “ ठहराव “ ,अंग्रेज़ी में क्या कहलाता है

क्या ये दो सुरों  के बीच का विराम है ?

सन्नाटे का वो आशीर्वाद

आख़री मील के सफ़र की तैयारी

पतझड़ के रंगों की क़दमों तले चटचटाहट

एक हवा का नया सा झोंका

जाड़े की जीर्णता में खुद

से जा पड़ने के पहले ।

 

शब्दावली

 

शीकप (माहवारी के दौरान इस्तेमाल होनेवाला मेंस्ट्रुअल कप )

पीएमएस (Pre Menstrual Syndrome – मासिक के पहले की शारीरिक मानसिक

बेचैनी, परेशानी)

ओ.सी. (OC – एक असाधारण गर्भावस्था जो लीवर को प्रभावित करती है जिसमें बहुत तेज़ खुजली होती है।)

आईयूडी (IUD – गर्भ के अंदर के यंत्र)

 

हेमा ने अपने दो बच्चों को घर में शिक्षित करने के लिए अपने कुछ अनोखे से कॉर्पोरेट करियर को छोड़ दिया। वो एक सदाबहार आशावान दस्तकार है, जो रोज़मर्रा की बातों की सुंदरता समझने के लिए लिखती है, और और शोर के बीच में चुप्पी का एक आसरा ढूंढ निकालने के लिए भी। अगर फ़ेसबुक पर नहीं, तो आप उन्हें यहाँ ढूंढ सकते हैं: https://youareanothing.com  

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *