हम आपके हैं, पॉर्न

एक लड़का पॉर्न देखते पकड़ा जाता है (पर उसकी ज़िन्दगी का फंडा – प्राण जाये पर पॉर्न न जाये )। सुनिए उसकी दिलचस्प कहानी!

रिकॉर्डइंग: मधुवंती मद्दुर
संकल्प: अनाहिता सचदेव
क्रिएटिव डायरेक्टर: पारोमीता वोहरा

अवधि: ४ मिनट २१ सेकंड

भाषा: हिंदी

 

You may also like

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *