गुदा प्रेम पर ज्ञान का फ्रेम

क्या आप असमंजस में हैं कि आजकल हर कोई गुदा सेक्स/एनल सेक्स  को आजमा रहा है । कभी ऐसे किसी दोस्त से सामना हुआ जो आपको ये बताने के लिए मर रहा हो कि- खुसफूस खुसफूस’- मेरी पार्टनर ने इसे आजमाया और उसे अच्छा लगा !

सुनी हुई सी बात है ना?  

इस महत्वपूर्ण मसले पर हमने खोजबीन की और कुछ ऐसी जानकारी हासिल की जिसे हम बांटना चाहते हैं।

हां, अधिकांश लोग गुदा सेक्स के बारे में उत्सुक हैं लेकिन हर महिला, समलैंगिक या विषमलैंगिक, अपनी गुदा में लिंग या डिलडो को सहज रूप से स्वीकार नहीं पाती है । और ना ही सभी पुरुष, समलैंगिक या विषमलैंगिक, एक दम से  (या कभी भी) अपनी गुदा में लिंग या पट्टे वाले गुदा समान यंत्र  को आरामदायक मानते हैं।

वास्तव में इससे कैसा महसूस होता है?

वास्तव में? कुछ लोग कहते हैंयह भद्दा है और मैं इसे फिर कभी नहीं आजमाउंगा“, तो कुछ कहते हैंयह कमाल का है और मैं इसके लिए हमेशा तैयार हूं

अनीता 25 वर्ष की थीं जब वह अपने साथी के साथ गुदा सेक्स करने को राज़ी हुई थीं। वह अब 35 वर्ष की हैं और उसे बहुत पसंद करती हैं।इसका आनंद योनि सेक्स से बहुत अलग है; आप अपने आप को भरा भरा सा महसूस करते हैं,” वह कहती हैं। इससे वह कामोत्तेजना की चरमावस्था तक भी पहुँची  हैं। उनके लिए ये ज़रूरी था कि वो इस प्रक्रिया में सीधे कूदें, बल्कि अपने पार्टनर को इजाज़त दें कि वो अपनी उंगलियों और जीभ से धीमी शुरुआत करें। 

वहीं दूसरी तरफ उनकी दोस्त नेहा आवेग से कहतीं हैं कि उन्होंने दो बार इसे आजमाया, लेकिन अब फिर से वो कभी कोशिश नहीं करेंगी , इसका सवाल ही पैदा नहीं होता है।  

वह बतातीं हैं कि जब पहली बार उन्होंने गुदा सेक्स की कोशिश की, तो वह काफी दर्दनाक था (उनके अनुमान से उन्होंने सही मात्रा में चिकनाई/ लुब्रीकेंट का इस्तेमाल नहीं किया था) उन्होंने कहा, “दर्द के अलावा, मुझे एक अप्रिय अनुभव हुआ, जैसे कि मैं किसी चीज़ को बाहर धकेलना चाहती हूँ।”  उन्होंने दूसरी बार सिर्फ इस वजह से कोशिश की (पर्याप्त चिकनाई/ लुब्रीकेंट के साथ) क्योंकि वो कुछ ऐसी औरतों को जानतीं हैं जिन्हें समय के साथ ये प्रक्रिया बेहतर लगने लगी। उन्हें दूसरी बार भी ये अप्रिय लगा, और इस बार वो आतंकित हो गईं कि वो नंबर दो कर बैठेंगी।( ये भी स्वाभाविक है, पर इसके बारे में आगे विस्तार से बात करेंगे)l

अनीता की तरह ही 22 वर्षीय निखिल का भी कहना है कि एक औरत के साथ गुदा सेक्स करना बहुत ही अलग तरह का अनुभव है, क्योंकि गुदा योनि से ज्यादा कसा हुआ होता है। यही कारण है कि कुछ पुरुष इससे आनंदित हो उठते हैं; यह लिंग पर अधिक दबाव डालता है, और इस तरह उसे और उत्तेजित करता है ।

मिहिर के पास अन्य विवरण हैं। वह समलैंगिक हैं, और हाल ही में उन्होंने पहली बार गुदा सेक्स का अनुभव किया।यह एक अजीब कहानी है,” वे कहते हैं।हम उसके मातापिता के घर में बेडरूम में बंद थे, और उसने मुझे चेतावनी दी कि मैं चुप रहूँ। बेशक, मैं नहीं रह सका; मुझे लगता है कि कोई भी व्यक्ति जो कहता है कि वह चुपचाप गुदा सेक्स कर सकता है, सरासर झूठ बोलता है।मिहिर के लिए ये प्रक्रिया थोड़ी दर्दनाक थी, लेकिन यही उनके आनंद की भी वजह थी। हालांकि उन्हें गुदा सेक्स के ज़िक्र से घिन लगने  से आगे बढ़ने में थोड़ा समय लगा, लेकिन उसके बाद उन्होंने काफी विचित्र अनुभव किया और आखिर में ये माना कि इस प्रक्रिया में उन्हें काफी आनंद आया।

क्या मुझे गुदा सेक्स से कामोन्माद- ओर्गास्म- मिलेगा?

कुछ महिलाओं का कहना है कि वे केवल गुदा सेक्स से उन्माद में सक्षम रहीं हैं, लेकिन जरूरी नहीं है कि ऐसा ही हो। कई महिलाएं गुदा सेक्स के दौरान भी उन्माद के लिये भगशेफ की अतिरिक्त उत्तेजना पर ठीक वैसे ही निर्भर करती हैं, जैसा योनि सेक्स के दौरान इसलिए यह अलग नहीं है। और ये याद रखना भी ज़रूरी है कि जिन तंत्रिकाओं को उत्तेजित करने से आनंद मिलता है वह गुदा के आरंभ  में ही हैं। गुदा नहर का अंदरूनी हिस्सा स्पर्श की तुलना में दबाव के प्रति अधिक संवेदनशील होता है, इसलिए जो कुछ भी आप उपयोग कर रहे हैं (उंगली, लिंग, सेक्स खिलौना) उसको बहुत गहरा ले जाने की आवश्यकता नहीं है।

क्या इसमें दर्द होता है?

यह सबसे बड़ा सवाल है जिसके बारे में सभी जानना चाहते हैं।  क्योंकि यह बात फैली हुई है कि इस प्रक्रिया में दर्द होता है। दर्द का कारण यह है कि योनि के विपरीत, गुदा अपने आप ही चिकनाई प्रदान नहीं करता है, और संवरणी मांसपेशियां/ स्फिंक्टर मसल्स इसे बंद रखतीं हैं।

अनीता और मिहिर के लिए, थोड़ा सा दर्द आनंद का हिस्सा है, लेकिन यह भी सच है , जैसा नेहा बताती हैं, “आप कितना दर्द महसूस कर रहे हैं, इस बात का संकेत होना चाहिए कि शरीर को कोई नुकसान तो नहीं पहुँच रहा है।कुछ लोगों का रक्त भी बह जाता है, लेकिन उस स्थिति तक नहीं जाना चाहिए। यदि बहुत ज्यादा दर्द महसूस हो, तो रुक जाना चाहिए।

कितना होना अधिक होता है? आपके लिए जो भी अधिक है, वही अधिक है। अपने फैसले पर भरोसा करें, ना कि अपने साथी या किसी गुदा सेक्स वाले पोर्नोग्राफिक वीडिओज़ की, जिन्हें आपने शैक्षिक उद्देश्यों के लिए गल्ती से देखा हो।

क्या करने से दर्द कम होगा?

सबसे पहले, धीरे से शुरुआत करें। पहले मौके पर शायद आपको लिंग की तुलना में किसी छोटी चीज़ से शुरुआत करनी चाहिए। आप अपने पार्टनर की उंगली द्वारा की गई छेड़खानी से भी शुरू कर सकते हैं। आप सेक्स खिलौने की उस श्रेणी का भी उपयोग कर सकते हैं जिसेबट प्लगकहा जाता है। इसके फैले हुए अंत को यूँ इस लिए बनाया गया है कि यह आपके  मलद्वार तक न पहुँचे; ऐसी स्थिति जो किसी भी हालत में अच्छी नहीं हो सकती!

आप चाहे  किसी सेक्स खिलौने का उपयोग  करें  या किसी व्यक्ति के साथ सेक्स  करें , और उंगली या लिंग का उपयोग  करें, यह  सुनिश्चित करें कि आप बहुत सारे चिकनाई/ लुब्रीकेंट का उपयोग कर रहे हैं। यह बात जितनी बार कही जाए, कम है । गुदा सेक्स के समय, मैंआपको लव करता हूँ’  कहने से बेहतर है कि’ मैं आपको ळुब करता हूँ’ (ळुब यानि लुब्रीकेंट)

मिहिर कहते हैं कि चिकनाई के अलावा, अगर आप बहुत कामुक तरीके से उत्तेजित हों, तो काफी मदद मिलती है। क्योंकि तब यह केवल सुखद महसूस करवाता है, बल्कि आपको कम सचेत भी रखता है। अनीता महिलाओं के लिए युक्तियाँ बताते हुए कहती हैं कि यदि आप अपनी संवरणी की मांसपेशियों/ स्फिंक्टर मसल्स को ढीला छोड़ दें तो उन्माद की संभावना अधिक रहती है।

यह अच्छा है, अनीता, लेकिन संवरणी को ढीला कैसे करें?

यह आम तौर पर व्यक्ति पर निर्भर करता है। सबसे अच्छा तरीका है संभोग की पूर्व क्रीडाएं, क्योंकि यह आपको रिलैक्स कर देती हैं,  और आपकी उतेजना को बढ़ा देती हैं।  कुछ लोग यह भी कहते हैं कि उन्माद सुख के ठीक बाद महिलाओं के गुदा में उत्तेजना लाना आसान है, क्योंकि उस समय उनका शरीर पूरी तरह से रिलॅक्स हो जाता है।

लेकिन उन चीजों में से एक, जो अक्सर लोगों को आराम की स्थिति में लाने में मदद करता है, वह है गुदा लेहन। इसे अनीलिंगस (कैन्नीलिंगस की तरह) या सिर्फरिम जॉबभी कहा जाता है। यह तब होता है जब कोई व्यक्ति अपने जीभ का उपयोग करके, चुम्बन या लेहन से या गुदा के किनारे पर फिराने से, गुदा को उत्तेजित करता है।

क्या यह सब थोड़ा गंदा नहीं है?

दो तकनीकी विवरण। गुदा मल को शरीर से निकालने वाला रास्ता है और मलद्वार गुदा पर समाप्त होने वाली बड़ी आंत का अंतिम भाग है। मलद्वार आपके पाचन तंत्र का एक बहुत ही साफ अंग है, जहां से आपकी आंतों का वो हिस्सा दूर है जहां वास्तव में मल होता है।

कुछ लोग स्वच्छ, नियंत्रित महसूस करने के लिए पहले पानी आधारितएनिमा बल्बके साथ गुदवस्ति करते हैं। एनीमा बल्ब, आमतौर पर चिकित्सकों द्वारा कब्ज का इलाज करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

लेकिन सचमुच, आप गुदा सेक्स से पहले अपने गुदा के आस पास के हिस्से को धोएं, बस इतना ही काफी है।

यह सब तो ठीक है, लेकिन अगर मुझे नंबर 2 जाने का मन करने लगे तो?

बहुत से लोग गुदा सेक्स के दौरान नंबर दो जाने की चेष्टा महसूस करते हैं, यानी कि यह एक सामान्य घटना है आपको ऐसी इच्छा हो या हो यह इस बात पर निर्भर करता है कि प्रवेश कितना गहरा है (जितना अधिक प्रवेश, उतनी अधिक संभावना), और आदमी के लिंग या डिलडो का आकार कैसा है।  अधिकांश डॉक्टरों का कहना है कि इस स्थिति पर नियंत्रण रखने का एक ही रास्ता है कि आप गुदा सेक्स की प्रक्रिया से पहले नंबर दो कर आयें यदि आप तीनचार घंटे पहले शौचालय जा चुके हैं, तो यह सुरक्षा के लिए पर्याप्त होना चाहिए। लेकिन अगर आप उस प्रक्रिया के दौरान ऐसा फिर से करने की ज़रूरत महसूस करते हैं ( जैसे कि आमतौर पर होता है), तो शर्मिंदगी की कोई बात नहीं है।  आप ऐसा भी समझ सकते हैं जैसा कि एक डॉक्टर ने कहा था– “लिंग को एक गोताखोर से समझें।

क्या मुझे कंडोम का उपयोग करने की आवश्यकता है? अपनी सुरक्षा के बारे में क्या करना होगा?

हाँ। 

योनि सेक्स के मुकाबले गुदा सेक्स के जरिए एक महिला एचआईवी और एड्स पाने की 17 गुना अधिक संकट उठाती हैं। असल में, आप आमतौर पर गुदा सेक्स के माध्यम से किसी भी यौन संचरित संक्रमण को प्राप्त या ट्रांसमिट करने का अधिक से अधिक जोखिम रखते हैं, जैसे एच.पी.वी वार्टस, सिफलिस, क्लैमाइडिया, गोनोरिया या हेपेटाइटिस बी। कुछ डॉक्टरों का कहना है कियह गुदा संभोग के दौरान गुदा और मलाशय को पहुचने वाले आघात की वजह से है।त्वचा के फटने की अधिक संभावना होती है क्योंकि गुदा संकीर्ण है, और आत्मचिकनाई नहीं करता है।

इसके अलावा, एक और महत्वपूर्ण नियम है: यदि आप गुदा सेक्स के बाद योनि सेक्स करने जा रहे हैं, या दोनों के बीच स्विच कर रहे हैं, तो इसमें कंजूसी करें। अपने कंडोम को बदलें। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता अगर आपको ऐसा लगे कि ये करने से लिंग गतिविधियों का प्रवाह भंग होगा। गुदा जीवाणु से भरा होता है जो दोनों लोगों को संक्रमित कर सकता है, और महिलाओं में मूत्र पथ के संक्रमण का कारण भी बन सकता है।

और रखरखाव विभाग से आख़री हिदायत:  बहुत गुदा सेक्स संभवतः आपके संवरणी की मांसपेशियों को कमजोर कर सकता है और यदि आपको टॉयलेट में बार बार घुसने की आवश्यकता होती है तो यह अच्छी बात नहीं है। इसमें केगल व्यायाम से आपको मदद मिलेगी।

पेगिंग के बारे में क्या?

पेगिंग उस प्रक्रिया को बोलते हैं जब एक महिला गुदा सेक्स के लिए अपने प्रेमी पर पट्टा या डिलडो का उपयोग करती है। इस प्रक्रिया में भी, सबके आराम के लिए, सिर्फ पट्टे की नहीं बल्कि बहुत सारी चिकनाई की भी जरुरत होती है। 23 वर्षीय कार्तिक का कहना है कि वह और उनकी प्रेमिका कुछ दिन से इस प्रक्रिया को आजमा रहे हैं। उनकी प्रेमिका को वो शक्ति/पावर पसंद  है जो प्रवेश करने वाले को महसूस होती है। और कार्तिक को तो गुदा उत्तेजना से बहुत ही ज्यादा आनंद प्राप्त होता है।

कुछ शोध कहते हैं कि पुरुषों में पीस्पॉट (जैसे महिलाओं में जीस्पॉट) होता है जो प्रोस्टेट ग्रंथि-प्रौसटेट ग्लेंड- को उत्तेजित करते हैं। हाँपी’ का मतलब यहाँ प्रोस्टेट है। लेकिन जैसे कि जीस्पॉट का आनंद महिलाएं हर तरह से उठाती हैं, प्रोस्टेट उत्तेजना का पूरा आनंद सभी पुरुष नहीं ले पाते हैं।

आमतौर से पुरुषों के लिए सेक्स शरीर के बाहरी हिस्से में होने वाली प्रक्रिया है। प्रवेश के इस किनारे आने से पुरुषों को संभोग की पूर्व क्रीडाओं की के महत्व का एहसास हो सकता है उन्हें ये भी पता चलता है कि औरतों को आराम की स्थिति में लाने में कितना समय लगता है  और हाँ, ये भी कि औरतों के यौन अनुभव क्या और कैसे होते हैं । चार्ली ग्लिकमैन, सेक्स शिक्षक, ने अपने 2011 के कॉलमहाऊ पेगिंग कैन सेव वर्ल्ड(पेगिंग दुनिया को कैसे बचा सकता है)में लिखा है, “बहुत से पुरुष ये पता लगा चुके हैं कि सेक्स को हांकने/ड्राइव करने से ज्यादा पार्टनर के मूड और भावनाओं को भाँपना जरूरी  है l पार्टनर के साथ कनेक्शन इस बात को ज़्यादा प्रभावित करता है कि वो क्या करना चाहते हैं और कैसा अनुभव कर पाते हैं।

क्या कुछ आसन/अवस्था गुदा के लिए दूसरों की तुलना में बेहतर हैं?

आप गुदा सेक्स के लिए बहुत सारे आसन का इस्तेमाल कर सकते हैं, ठीक वैसे ही जैसे योनि सेक्स में करते हैं। निखिल का कहना है कि अधिकांश लोग, मूल्य पोर्न वीडियो से प्रभावित होकर, सबसे आम आसन अपनाते हैंजिसमें प्राप्त करने वाला साथी नीचे झुका होता है, और देनदार साथी पीछे से ज़ोर डालता है।

लेकिन अनीता का कहना है कि उन्हें गुदा सेक्स तभी आरामदायक महसूस हुआ जब वो ऊपर थीं, क्योंकि उनके हिसाब से इस आसन में वो गहराई और तीव्रता, दोनों पर नियंत्रण रख सकतीं थीं। इसमें यह फायदा भी है कि ऊपर होने से औरतों को अपने भगशेफ रगड़ने में आसानी हो जाती है। 

इसलिए यदि आप गुदा सेक्स के बारे में उत्सुक हैं और इसे आज़माना चाहते हैं, तो धीमी शुरुआत करें, कंडोम का उपयोग करें, बहुत सारी चिकनाई का इस्तेमाल करें। फिर शायद आप उन लोगों में से एक हो जाएं जिन्होंने अधिक उन्माद का एक नया मार्ग खोज लिया है।

* इस लेख के पात्र और उनके नाम,  घोतक हैं..  उनकी सेहत या लैंगिकता पर इस पोस्ट का कोई प्रभाव नहीं है.  

You may also like

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *