हस्तमैथुन और साफ़ सफाई – मज़े लूटने की बारी आयी

हस्तमैथुन करना यानि खुद से प्यार करना l  है ना? अपने को उन नीम -नीम शहद -शहद, नर्म और सख्त जगहों पर छूना l  पर डरी हुई दुनिया, हस्तमैथुन को “गन्दी बात” और शरीर की उन ख़ास जगहों को- “गन्दी जगह” बतला कर बदनाम करती है l 

नतीजा? हस्तमैथुन से जुड़ी साफ़ सफाई पर हम कम ध्यान देते हैं –  जैसे उनका एक दूसरे से कोई लेना देना नहीं| पर सच तो ये है कि ये लंगोटिया यार हैं|

शर्म की घुट्टी को मारो गोली |

मामले को हाथ में लो, मस्त रहो और हस्तमैथुन करते समय, अपने गुप्तांगों को छूते हुए साफ़ सफाई का ध्यान रखो| 

इस मामले में किन बातों पर ध्यान देना है? लीजिये हमने आपके लिए एक लिस्ट बनाई है  

हस्तमैथुन करने से पहले और बाद में, अपने हाथों और नाखूनों को अच्छे से धोएं l हज़ारों कीटाणुओं से बचने का एकदम आसान उपाय है l

अब अगर आप गंदे हाथों से हस्तमैथुन करेंगे तो क्या हो सकता है? इन्फेक्शन, जलन की शिकायत और मामला बिगड़ गया तो,  बैक्टीरिया बदन के काफी अन्दर जाकर किडनी इन्फेक्शन का कारण बन सकता है (ना बाबा ना! ये ना होने देना) l यह किसी को भी हो सकता है, चाहे आप मर्द हो या औरत या ट्रांस या किसी भी पहचान वाले l यानी किसी भी गुप्तांग के साथ ऐसा हो सकता है l

तो घबराइए मत,ए.ओ.आई. का गुप्तांग सफाई  गाइड पढ़िए, जो आपको अपने गुप्त अंगों यानी गुप्तांगों यानी प्राइवेट पार्ट्स को साफ़ सुथरा रखने के सरल और असरदार तरीके बताएगाl इसे फॉलो कीजिये, साथ में हाथों को साफ़ रखना मत भूलिए l और यूं अपने प्राइवेट पार्ट्स  के साथ जम के प्राइवेट मज़े लीजिये l

 

नाखून छोटे होंगे तो छूने, सहलाने और अंदर बाहर आने जाने में आसानी होगी | बड़े हुए या टेड़े मेढे  नाखूनों से चोट लग सकती है l 

चोट लगने पर आपके गुप्त अंगों में इन्फेक्शन हो सकता है| जैसे योनि का सूज जाना|  जिससे आपकी प्यार वाली गाड़ी पर  ब्रेक लग सकता है| (उफ्फ) l

 

नेलपोलिश वाली उँगलियों को ध्यान से धो कर ही हस्तमैथुन करना चाहिए| वो क्या है ना, उन नाखूनों के अन्दर काफी गंदगी छुपी रह सकती है | तो चांस क्यों लेने का| समझदारी इसी में है कि ऐसी नेलपॉलिश लगाओ जो फ़टाफ़ट सूखे| फिर क्या, बत्ती बुझाओ और मज़े लुटाओ 😉 l

और अगर नाखूनों पर नेल आर्ट बनवाया हुआ है, तो ध्यान से| वो छोटे बीड्स या ग्लिटर योनि में टूट कर गिर सकते हैं, जिससे खुजली और इन्फेक्शन हो सकता है| इससे बचना है तो बहुत सरल है- हस्तमैथुन उन उँगलियों से करो जिनपर  कलाकारी न हो l

 

हस्तमैथुन करने के और भी तरीके होते हैं| अपने गुप्तांगो को हाथों से टच किये बिना भी,कपड़ों के ऊपर से भी मज़ा लिया जा सकता है| तकिये, सोफा, गद्दे, वगैरा वगैरा से भी हस्तमैथुन करा जा सकता है| बस ध्यान रखो कि जिस चीज़ का इस्तेमाल कर रहे हो, वो ख़ास आपकी हो, सबकी नहीं | पब्लिक नहीं, आपकी प्राइवेट प्रॉपर्टी | ज़रा संभाल के यूज़ करने का, हाँ?  इन्फेक्शन से बच कर रहोगे l  

किसी और के इस्तेमाल की चीज़ को अपने बदन से  न रगड़ना l दूसरे की बॉडी के गीलेपन से इन्फेक्शन का डर  रहता है l एक गीलापन तो वो होता है जो क्लाइमेक्स करते समय निकलता है, पर पसीने से , और बदन से निकलने वाले किसी भी गीलेपन से भी इन्फेक्शन का डर है l 

 

यार, ये सो सच है कि पीरियड्स के दौरान हस्तमैथुन से गज़ब आराम मिलता है l तो साफ़ सफाई रखने से इसका मज़ा डबल हो जाता है|

अपने हाथ, नाखून और सेक्स टॉयज अच्छे से धो कर साफ़ रखें ताकि जब मन करे, आप इनका यूज़ कर सकें | साफ़ तौलिये और कपड़े साथ में रखें, बाद में अपनी और प्राइवेट पार्ट्स की सफाई में आसानी होगी |

ड्राई हम्पिंग(बिना गुप्ताओंगें को छुए, अक्सर कपडे पहने हुए सेक्स करना) मज़े लेने का एक बढ़िया, साफ सुथरा तरीका है| और अगर इस बात का डर है कि कहीं कुछ छलक कर बाहर ना आ जाये, तो अपना पैड, कपड़ा, टैम्पौन या कप उस हिसाब से एडजस्ट कर लें|

 

सेक्स टॉयज़ को साबुन से धोने और साफ़ करने के बाद ही उनका यूज़ करें| कई सेक्स टॉयज़ के डब्बों पर उनको साफ करने का तरीका समझाया जाता है| उसे फॉलो करें | और हस्तमैथुन करने के बाद उसे वापस धो कर, साफ कर, उसे सुरक्षित बॉक्स में रख दें| 

 

एनस( anus)/गुदा के रास्ते शरीर की गंदगी बाहर निकलती है, तो इस बात पर ध्यान देना होगा कि कोई गन्दगी रिटर्न टिकट काट कर वापस अंदर ना चली जाए l एनल हस्तमैथुन(गुदामैथुन) करने से पहले इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आपका पेट साफ़ हो l 

उँगलियों, सेक्स टॉयज या जिस चीज़ से भी आपको मज़ा आये (ध्यान रहे की वो नुकीली ना हो,वरना चोट लग सकती है!) उसे बस इस्तेमाल करने से पहले साबुन से धो लें | और काम होने के बाद वापस साफ़ करके ही रखेंl और हाँ, एनस और रेक्टम के छेद में ऊँगली या सेक्स टॉयज डालने से पहले चिकनाई का इस्तेमाल करके,उसको चिकना कर लें, ताकि अंदर डालने में दिक्कत ना हो |  ऐसा करने से दर्द भी कम होगा और चोट लगने से बचाव भी होगा | 

दोस्तों एक बात और, हमेशा योनी से खेलते हुए गुदा की ओर जाएँ, गुदा से योनी की ओर नहीं, वरना इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है | इस बात की गाँठ बाँध कर रखियो!

 

चरम सुख मिलने के बाद जो डिस्चार्ज निकलता है, उसे साफ़ और सूखे कपड़े या तौलिये से साफ़ करें, ताकि आपके गुप्तांग साफ़ और स्वस्थ रहें| जिन मर्दों का खतना नहीं हुआ है, लिंग पर चढ़ी चमड़ी ( foreskin) के नीचे की ओर मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया और स्मेग्मा (सफ़ेद, चिपचिप गंदगी) को अच्छे से साफ करें| आप अपने गुप्तांगों के आस पास उगे बाल भी ट्रिम कर सकतें हैं ताकि उनमें कोई गंदगी ना फंस जाए|

अगर आपका अंडरवियर ज़्यादा ही गीला या खराब हो जाए तो उसे ज़्यादा देर तक न पहने रखें| लगातार नमी रहने से फंगल इन्फेक्शन या और कोई बीमारी भी हो सकती है| (प्यार में, ज़रा संभलना!)

जैसे सेक्स के बाद लोगों को पेशाब करना चाहिए, वैसे ही हस्तमैथुन के बाद भी करना चाहिए l  इससे इन्फेक्शन का ख़तरा कम होता है, गन्दगी बाहर निकलती है, सफाई हो जाती है | 

 

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *