टूटे दिल के लिए १३ घरेलू नुस्खे

जज़्बातों की दुनिया में दिल टूटना एक जानी मानी हस्ती है, बल्कि मैं तो कहूँगा, मशहूर हस्ती है | लोग बिना मिले ही उसके नाम और कारनामों से वाकिफ हैं | इतना कि लोगों का यह कहना आम बात है  “मुझे दिल टूटने से बड़ा डर लगता है इसीलिए मैं प्यार में पड़ता ही नहीं”| प्यार ऐसे दूर कहाँ रखा जाता है| मोहब्बत बिना बताये दरवाज़े पर तब दस्तक देती है, जब आप उसे ढूँढ भी नहीं रहे हो| और फिर दिल टूटने की संभावना हमेशा बनी रहती है| और साथ साथ उसके दर्द की, पीस देने वाला दर्द |

लेकिन दिल टूटने के काले घने बादलों के बीच आशा की एक किरण भी होती है | वो यूं कि, देखो, ये दिल का टूटना तो सदियों से चला आ रहा एहसास है| इसीलिए लोगों ने इस मर्ज़ के लिए कई घरेलू नुस्खे इजाद कर दिए हैं |

 

माना कि आपको लाउडस्पीकर लेकर, अपने पुराने आशिक की कॉलोनी के बाहर सड़क पर खड़े होकर सबको यह बताने की ज़रुरत नहीं है, कि उसने आपके साथ क्या किया | पर यार, इसको इतना हल्के से भी लेने की ज़रुरत नहीं | ये तो मत समझो कि आप उसकी शादी में जा कर नाचोगे | रोना स्वाभाविक है और थोड़ा बहुत मेलोड्रामा भी चलता है, एजेंट्स| बस कोशिश करो की यह ड्रामा सुरक्षित स्थान पर हो | 

 

आप एक हफ्ते से रो रहे हो| आपको शायद दो हफ्ते और लगें  या पूरा एक साल भी लग सकता है | हर एक का टूटे दिल से उबरने का अलग ही टाइम टेबल होता है| 

 

यह सुनना आपके लिए कितना भी दर्द भरा क्यों ना हो | पर जिससे आप अपने दिल की सारी बातें शेयर करते थे, वही आशिक इस मामले में आपकी कोई मदद नहीं कर सकता है | इसलिए नहीं कि वो खराब इन्सान है | पर आप उसी शख्स से गुस्सा, शिकायत या उसके नाम ले कर नहीं रो सकते, जिसकी वजह से आप इस हालत में हो | 

 

अपने पुराने आशिक को पेपर पर ख़त पर ख़त लिखो और फाड़ दो | अपने कंप्यूटर पर लिखो और मिटा दो | अपनी शिकयातें, जोक्स, डर और सपने, सब लिखो | उन सब इच्छाओं को लिखो जो अभी भी तुम्हारे अन्दर बाकी हैं | ईमेल मत लिखना, वरना भेजने से खुद को रोक नहीं पाओगे | बस लिखने भर से ही आप काफी अच्छा महसूस करेंगे | आप आईने के सामने खड़े होकर भी उन पर चिल्ला सकते हो | शीशा नहीं टूटेगा |

यह मानना मुश्किल होता है और इस पर धीरे धीरे काम करना होगा |अपने दिमाग के खेल को समझो- वो आपको मनाएगा कि बस एक ठोस तर्क मिल जाए तो आप दोनों वापस एक हो सकते हैं|

ये सोच कर कि पुरानी यादें चोट पहुंचाएंगी, आप उन सभी जगहों पर न जाने की कोशिश कर सकते हैं, जहां आप दोनों हमेशा जाते थे | यह करना मुश्किल भी होगा और असंभव भी | हो सकता है आप उन्हीं जगहों पर नए संपर्क बनाएं जिनसे पुरानी यादें मिटती जाएँ | आप दोनों की कुछ एक-आध मनपसंद जगहों पर दूसरे दोस्तों के साथ जाइये और देखिये आपको कैसा महसूस होता है | ज़रूरी नहीं है कि आपको मज़ा आये | आप इस हालात से उबरने के लिए और आगे बढ़ने के लिए एक छोटा कदम लेने की कोशिश में हो |

कोई नई कोल्ड कॉफ़ी ट्राई करो | कोई बॉलीवुड डांस क्लास ज्वाइन करो | नया हेयरस्टाइल  भी चलेगा | सुबह आधे घंटे पहले उठो और एक नए रास्ते से ऑफिस जाओ |

जब तक आप अपने को हिला हुआ पाते हो, तब तक, पहले के रूटीन को 90% सलामत रखना काम आ सकता है

| खाओ, कुत्ते को घुमाओ और रविवार को अपनी नानी से मिलने जाओ |नियमनसार या उम्मीद अनुसार होती हुई चीज़ों में भी एक आराम है | आपको उस आराम की भी ज़रुरत है | 

जितना आपका दिल करे उतना सही, पर थोड़ी सी एक्सरसाइज से आपको काफी बेहतर महसूस होगा | अपने पास के पार्क में एक मिनट के लिए ऐसा ज़बरदस्त दौड़ें कि बाकी जॉगिंग करने वाले और कुत्ते डर जायें | हेडफोन लगा कर अपने बाथरूम फ्लोर पर जोर जोर से कूदें | स्विमसूट खरीदें और किसी की मदद से पूल में तैरना नहीं तो सिर्फ पानी के साथ बहना सीखें | स्विमिंग सीखने की ज़रुरत नहीं है |

अनफ्रेंड | अनफॉलो | लॉग आउट | उनके सारे नम्बर मिटा दो फोन से | क्या आपको लगता है कि आप कूल नहीं है?  कोई फर्क नहीं पड़ता है |आपको इसकी ज़रुरत है | आपको अभी सिर्फ अपना ख्याल रखना है और अपने पुराने आशिक के बारे में सोचते नहीं रहना है |

अपने अन्दर से आ रही गुस्से से भरी और दुखी आवाजों से दोस्ती करें | उनकी सुनें पर याद रखें कि आपको अपने बारे में क्या अच्छा लगता है | उसकी लिस्ट बनायें,  जो केवल आप कर सकते हैं , किस तरह से आपने दूसरों की मदद की, जो भी प्रशंसा मिली है आपको, इन सब को उस लिस्ट में लिखें | पहले थोड़ा अजीब लगेगा, पर इससे आपको ही फायदा होगा | 

ऐसे अजनबी से मिलना, जिसका काम ही आपकी बात सुनना है, और उससे बात करना, आपके दुखी मन को अच्छा लग सकता है | वो अजनबी ये समझ सकता है कि आप किस दौर से गुज़र रहे हैं | खासतौर पर जब आप को लग रहा हो कि आप अपने परिवार और दोस्तों पर भार हैं| क्योंकि आपने इसके बारे में हद से ज़्यादा बात की है और उसके बावजूद भी आप और डिप्रेशन में चले गए | या आपको इसके बारे में किसी से बात करने में संकोच होता है | या फिर आपके दिमाग में उथल पुथल मची हुई है | सभी कारणों के लिए एक ऐसे थेरेपिस्ट को ढूंढें जो आपके समय और बजट को सूट करता हो | एक बार उसके पास जाएँ और फिर देखिये आगे क्या होता है | वैसे हर टूटे दिल की एक ही दवा है|  तो सुन लीजिये हमारा नुस्खा :

बस यही करते रहना है |

 

आपने अपने टूटे दिल के दर्द से उबर पाने के लिए क्या किया था उससे जुड़े कोई सुझाव, विचार या टिप्स हैं? उन्हें बाकी दिल के मारों से शेयर करें agentsofishq@gmail.com पर या फिर ट्विटर/फेसबुक/इन्स्टाग्राम पर हमें प्राइवेट मेसेज भेजें | हम सभी को अपने दोस्तों से छोटी सी मदद की ज़रुरत होती है |

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *