एक रोमहर की डायरी से, रोम-रोम की कुछ गंभीर कहानियाँ

सिर्फ लिखित देखने के लिए यहाँ क्लिक कीजिये।

लिखित – दीपाली तनेजा

अनुवाद – नेहा झा 

 

दीपली तनेजा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बाल विकास में स्नातकोत्तर की डिग्री उपलब्ध की है। वह तीन कुत्तों और एक युवा की दादी हैं। उनकी लघु कहानियाँ  टाइम्स ऑफइंडिया कोची के ओणम स्पेशल सप्लीमेंट, कोची में (नब्बे के दशक मेंप्रकाशित की गई थी। और अगस्त २००७ से वह दीपालितनेजा.ब्लॉगस्पॉट.कॉम पे ब्लॉगिंग कर रही हैं।

Comments

comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *